Sunday, February 4, 2007

मुझपे विश्वास बनाये रखना...


निराशाओं के इस मौसम में तुम,

दीप आशाओं क जलाये रखना,


उम्मीद की सुबह होने को है,

बस तुम माहौल बनाये रखना,


लग ना जाये कहीं इन्हें दुनिया की नज़र,

अपने सपनों को पलकों तले छुपाये रखना,


पूरे होंगे एक दिन ख्वाब तुम्हारे भी,

बस आस अपने में जगाये रखना,


गुजर ना जाये जिंदगी तुम्हारी भी यूं ही,

कुछ करने को दिल में हिम्मत बनाये रखना,


जब जरूरत हो किसी साथी की तुम मुझको आवाज़ देना,

मैं जरूर आउंगी दोस्त तुम मुझपे विश्वास बनाये रखना।

9 comments:

Jitendra Chaudhary said...

लग ना जाये कहीं इन्हें दुनिया की नज़र,
अपने सपनों को पलकों तले छुपाये रखना,

जब जरूरत हो किसी साथी की तुम मुझको आवाज़ देना,

मैं जरूर आउंगी दोस्त तुम मुझपे विश्वास बनाये रखना।


वाह! अच्छा ज़ज्बा है।

Divine India said...

यह पूरा जीवन अगर किसी सार्थक सत्य पर अबतक टिका है, वह है विश्वास…इस अंधी दुनियाँ के चौबारे में यह मानव के लिए वर्तमान का सबसे मजबूत बंधन है…अभिव्यक्ति सरल और सीधी है…।

Upasthit said...

Naari ka kisi ko(?) aisa vishvaas jagaana, ye kahna ki mujhko vaaj dena, tum vishvaas banaye rakhana, ham rudhivaadi hindustniyon ke liye nayi si baat hai.
(Dost ki dosti ke prakaar ya asambhavit samabhavanaon par koi purvanumaan mukt ho kah raha hun yah).
Nayi baat batane, naye dhang se purana raag fir fir sunaaane , sunane kaa naam hi kala hai rachana hota hoga.

उडन तश्तरी said...

ठीक है, बढ़ियां लिखा गया है, विश्वास बनाये रखा जायेगा.

ranju said...

पूरे होंगे एक दिन ख्वाब तुम्हारे भी,


बस आस अपने में जगाये रखना,




गुजर ना जाये जिंदगी तुम्हारी भी यूं ही,


कुछ करने को दिल में हिम्मत बनाये रखना,

bahut khoob manya ......dil ko chhoo gayi tumhari yah rachana

संजय बेंगाणी said...

सरल, सहज, सुन्दर पंक्तियाँ

Anonymous said...

manya ji, shuch me kitan accha likhti hai aap. jab bhi koi lekh parta hu to yeh sochte hue ki abhi or likha ho, ki kahi bus yahi per end na ho jay, matlab ki bus parta rahu. such me bahut hi achha likhti hai aap. and i want to know u personally if possible.

thanks

bye


from
rohit (nainital) uttranchal
pwn_07@yahoo.co.in

सागर चन्द नाहर said...

कविता की पंक्तियाँ बहुत सुन्दर लगी।

manya said...

Jitu JI, Divya, Sameer Ji, Ranju, Sanjay Ji, Rohit JI, N Sagar JI...
aap sabka thae dil se shukriya ki aapne meri rachana ko padha aur sarahaa.

Upasthit JI.. aapka bhi shukriya ki aap ne meri rachna padhi.. par aapke bhaw mujhe kuchh spasht nhn lage..naari agar wishwaas jagaane aur saath dene ki baat kahe to usme rudhiwaaditaa ki baat kahan se aati , stree to sadiyon se wishwaas ka pratik rahi hai aur anantkaal se purush ka saath nibhaati aayi hai har roop me.Aapne to apne saath saath pure hindustan ko rudhiwaadi bata diya par aisa h nahi desh ki badi jansankhya rudiwaad se bahar aa chuki h.. aapki profile se mujhe aap bhi 21st century ki generation ke lage the par shayad...? Aur haan mujhe pata nhn maine koi nayi baat kahi ya purana raag alaapa par main wahi kahati hun jo maanati hun sochti hun.. ek baar wishwaas se kisi naari ko awaaz dijiye fark samajh me aa jaayega.